इस्लामाबाद, एपी। पाकिस्तान में सुन्नी चरमपंथियों की भीड़ ने गुरुवार सुबह सियालकोट शहर में अल्पसंख्यक अहमदी समुदाय की एक ऐतिहासिक मस्जिद ढहा दी। इस घटना के वक्त मस्जिद में कोई भी मौजूद नहीं था। इसलिए किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। सुन्नी और अहमदी समुदाय के बीच हिंसक संघर्ष टालने के लिए स्थानीय प्रशासन ने कई वर्ष पहले इस मस्जिद पर ताला लगा दिया था।

मस्जिद ढहाए जाने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। बताया जाता है कि अहमदी समुदाय के संस्थापक मिर्जा गुलाम अहमद कभी इस मस्जिद में ठहरे थे। गुलाम अहमद ने भारतीय उपमहाद्वीप में 19वीं सदी में इस समुदाय की शुरुआत की थी।

पाकिस्तान ने 1974 में अहमदी समुदाय को गैर-मुस्लिम घोषित कर दिया था। उसके बाद से मुल्क में अहमदियों के खिलाफ हिंसा बढ़ गई। पाकिस्तान में बहुसंख्यक सुन्नी समुदाय अक्सर अहमदी समुदाय को निशाना बनाता रहता है।

https://www.google.co.in/amp/s/m.jagran.com/lite/world/pakistan-sunni-extremists-demolish-historical-mosque-of-ahmadi-community-in-pakistan-17993503.html

Advertisements